सामूहिक हत्याकांडः नौवें दोषी के खिलाफ भी वारंट जारी

Daily Hunt News 15-05-2019 19:43:49

हमीरपुर। उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में सामूहिक हत्याकांड में उम्रकैद की सजा पाये नौवें सजायाफ्ता के खिलाफ बुधवार को अपर जिला सत्र न्यायाधीश ने गैर जमानती वारंट जारी कर हाईकोर्ट इलाहाबाद के आदेश का अनुपालन कराये जाने के निर्देश दिये हैं। इस कांड में भाजपा के सदर विधायक समेत आठ दोषी जेल की सलाखों के पीछे भेजे चुके हैं। हमीरपुर शहर के भीड़भाड़ वाले सुभाष बाजार में 26 जनवरी 1997 की देर शाम भाजपा नेता राजीव शुक्ला के बड़े भाई राकेश शुक्ला, राजेश शुक्ला, भतीजा गुड्डा समेत पांच लोगों को ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर मौत के घाट उतार दिया गया था। गोलीबारी में राजीव शुक्ला व एक अन्य घायल हुआ था। इस घटना में सदर विधायक अशोक सिंह, चंदेल समेत बारह लोगों को नामजद किया गया था। 

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

इस मामले की सुनवाई स्थानीय अदालत में हुयी, जिसमें इस गंभीर मामले में सभी आरोपितों को बरी कर दिया गया था। बाद में इस मामले की अपील हाईकोर्ट इलाहाबाद में की गयी। इस पर पिछले माह 19 अप्रैल को हाईकोर्ट की डबल बेंच के न्यायमूर्ति डीके सिंह व रमेश सिन्हा ने सदर विधायक समेत नौ दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। अदालत से गैर जमानती वारंट जारी होने के बाद पिछले सोमवार को सदर विधायक अशोक सिंह चंदेल, रघुवीर सिंह व डब्बू सिंह समेत पांच सजायाफ्ता दोषियों ने पुलिस की सुरक्षा के तार-तार करते हुये भारी समर्थकों के साथ अदालत पहुंचे और कोर्ट में आत्मसमर्पण कर दिया था। समर्थकों ने कोर्ट के अंदर और बाहर नारेबाजी भी की थी। विधायक समेत आठ दोषियों को जेल की सलाखों में किया गया। कोतवाली पुलिस ने नारेबाजी कर हंगामा करने में विधायक समर्थकों के सैकड़ों अज्ञात लोगों के खिलाफ दो मुकदमे भी दर्ज किये थे। 

इस वक्त घर में ना करें साफ-सफाई, नहीं तो..!
यह भी पढ़ें

इधर सामूहिक हत्याकांड के वादी राजीव शुक्ला के प्रार्थनापत्र पर अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश (कोर्ट-2) ने सामूहिक हत्याकांड के नौवें सजायाफ्ता श्याम सिंह पुत्र वीरबल निवासी सुमेरपुर के खिलाफ बुधवार को वारंट जारी कर दिया है। अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने जेल अधीक्षक हमीरपुर को पत्र भेजकर हाईकोर्ट के आदेश का पालन कराये जाने और वारंट तामील कराकर 16 मई तक रिपोर्ट मांगी है। सामूहिक हत्याकांड के वादी राजीव शुक्ला ने बुधवार को  बताया कि सामूहिक हत्याकांड में श्याम सिंह को भी हाईकोर्ट से उम्रकैद की सजा सुनाई गयी है। इसने वर्ष 1995 में सुमेरपुर कस्बे में दोहरा हत्याकांड किया था, जिसमें संजय शुक्ला व शिवनारायण मिश्रा उर्फ चिरका महाराज की हत्या हुयी थी। श्याम सिंह ने सिद्ध गोपाल की भी हत्या की थी। इन दोनों मामलों में अदालत से श्याम सिंह को आजीवन कारावास की सजा पूर्व में हुयी थी।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

सजायाफ्ता मुजरिमों को फांसी दिलाने की होगी पैरवी 
सामूहिक हत्याकांड के वादी राजीव शुक्ला ने बताया कि सदर विधायक समेत नौ दोषी उम्रकैद की सजा के बाद जेल में है। ये पक्ष सुप्रीम कोर्ट में अपील कर रहा है। लेकिन उससे पहले ही सुप्रीम कोर्ट में कैविएट लगवा दिया गया है। उन्होंने बताया कि दूसरे पक्ष की अपील की एक प्रति उन्हें बिना रिसीव कराये सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई नहीं होगी। उन्होंने बताया कि सदर विधायक समेत सभी सजायाफ्ता दोषियों को सुप्रीम कोर्ट से फांसी की सजा दिलाये जाने के लिये पूरी कोशिश की जायेगी।

Recommended

Spotlight

Follow Us