सूखे से निपटने के लिए जून में कृत्रिम वर्षा कराएगी कर्नाटक सरकार

Daily Hunt News 15-05-2019 19:11:34

बेंगलुरु। ग्रामीण विकास और पंचायत राज मंत्री कृष्णा बेरेगौडा ने घोषणा की कि कर्नाटक सरकार इस साल मानसून की शुरुआत और अगले साल सूखे से निपटने के प्रयासों के तहत कृत्रिम वर्षा (क्लाउड सीडिंग) कराएगी। 

ट्रायल कोर्ट से मिली जमानत रद्द करने की ईडी की मांग पर हाईकोर्ट का गौतम खेतान को नोटिस
यह भी पढ़ें

बुधवार को उन्होंने संवाददाताओं से बातचीत में बताया कि सरकार 2019-20 और 2020-21 के लिए क्लाउड सीडिंग परियोजना के लिए अनुमानित 88 करोड़ रुपये खर्च करेगी। उन्होंने बताया कि इस साल बारिश कम होने की संभावना है, इसलिए एहतियात के तौर पर सरकार ने दो साल के लिए क्लाउड सीडिंग का फैसला किया है।

मात्र 240000/- में टोंक रोड जयपुर में प्लॉट 9314166166

यह कदम सूखे का समाधान नहीं है, लेकिन कुछ हद तक मदद करेगा। इसके लिए एक सप्ताह या दस दिनों में निविदाएं आमंत्रित की जाएंंगी। जून के अंत तक कृत्रिम वर्षा शुरू की जाएगी। कृत्रिम वर्षा दो केंद्रों, हुबली और बेंगलुरु से की जाएगी। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

क्लाउड सीडिंग में एरोसोल (सिल्वर आयोडाइड या सोडियम क्लोराइड) को बादलों में फैलाना होता है ताकि वर्षा की प्रक्रिया को प्रोत्साहित किया जा सके, जिससे बारिश होती है। उल्लेखनीय है कि क्लाउड सीडिंग से बारिश तभी संभव है, जब आसमान में बारिश वाले बादल मौजूद हों। ऐसे में इसके लिए मॉनसून का समय सबसे बेहतर रहता है, क्योंकि उस दौरान बादलों में नमी की मात्रा अधिक होती है।  
हिन्दु

Recommended

Spotlight

Follow Us