होटल संचालक ने बेटे और बेटी को जहरीला पदार्थ खिलाकर किया...

Daily Hunt News 3/13/2019 8:27:12 AM

गाजियाबाद: सिहानी गेट थाना क्षेत्र के नूरनगर सिहानी में रहने वाले एक होटल संचालक ने बेटे और बेटी को जहरीला पदार्थ खिलाकर खुद भी फंदा लगा लिया। 

बुधवार, 13 मार्च: जानिए आज के सोने-चांदी के भाव
यह भी पढ़ें

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.40 लाख में Call On: 09314166166

सुंदरपाल के बच्चों को लूडो बहुत पसंद था, अंतिम समय में भी उसने बच्चों के साथ यही खेल खेला। बच्चों को उनकी मनपसंद मिठाई रसमलाई भी खिलाई। इसी मिठाई को हथियार बनाकर सुंदरपाल ने बच्चों के साथ मौत का खेल खेला। छोटा बेटा मां के पास सोया हुआ था, इसलिए उसकी जान बच गई। सुंदरपाल ने परिवार के किसी भी सदस्य को घटना के बारे में कानोकान खबर नहीं लगने दी। उसका व्यवहार सभी के साथ वैसा ही था जैसा कि रोज रहता था।

इससे तीनों की मौत हो गई। कारोबार में घाटे की वजह से वह मानसिक रूप से परेशान था। सुंदरपाल (42), बेटा तुषार (15), बेटी माही (11) सोमवार रात एक कमरे में सोए थे। पत्नी शशि सभी को खाना खिलाकर करीब साढ़े नौ बजे दूसरे कमरे में सोने चली गई। नींद नहीं आने पर वह 10 बजे दूसरे कमरे में गई और छोटे बेटे नमन को अपने साथ ले आई।

सुंदरपाल तुषार और माही के साथ लूडो खेलते रहे। पत्नी के सोने केबाद सुंदरपाल ने रसमलाई में दोनों बच्चों को जहरीला पदार्थ खिलाकर खुद फंदे से लटक गया। पत्नी तड़के तीन बजे उठी तो दूसरे कमरे की लाइट जली देखी। अंदर जाकर देखा तो सुंदरपाल फंदे से लटका था। तुषार और माही का शव जमीन पर पड़ा था। इस दौरान परिवार के अन्य भी वहां पहुंच गए। सुंदरपाल मनाली में होटल चलाता था। थाना प्रभारी सिहानीगेट संजय पांडेय ने बताया कि सुंदरपाल की आर्थिक स्थिति खराब थी इसलिए काफी समय से डिप्रेशन में था।

सुंदरपाल ने बच्चों को मारने की प्लानिंग भी पहले ही कर ली थी। वह जानता था कि उसकी मौत के बाद बच्चों की परवरिश कैसे होगी। 11 मार्च की शाम को बच्चों को खुश करने वाले सारे काम किए। उसकी पत्नी शशि ने टोका भी काफी रात हो रही है। सब सो जाओ, लेकिन सुंदरपाल के दिमाग में तो कुछ और ही प्लानिंग चल रही थी। सुंदरपाल बच्चों के साथ खेलता रहा। सुबह से ही परिवार के सदस्यों के साथ नार्मल व्यवहार करता रहा। जब घर के अंदर परिवार के सभी लोग सो गए। तब रसमलाई खोलकर उसमें जहरीला पदार्थ मिलाया और बच्चों को खिला दिया। बच्चों की मौत के बाद उसने कमरे के अंदर लगी पाइप पर पत्नी की साड़ी से फंदा बनाकर खुदकुशी कर ली।

सुंदरपाल मनाली में कांट्रेक्ट पर होटल चलाता था। दो महीने पहले बर्फ अधिक पड़ने के कारण घर आ गए था। व्यापार सही न चलने के कारण अवसाद से ग्रस्त था। पिछले दो महीने से वह डायरी के पन्नों पर कुछ न कुछ लिखता रहता था। आखिरी पेज पर छह मार्च से लिखना शुरू किया है। छह मार्च को लिखा है लोन कराने वाले एजेंट को फोन किया तो उसने बताया कि 6.90 लाख रुपये का लोन पास हो गया है, आपके खाते में सात मार्च को रुपया पहुंच जाएगा। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

सात मार्च को फोन करने पर बोला आठ मार्च को आ जाएगा और फोन काट दिया। आठ मार्च को फोन किया तो बोला सोमवार तक आ जाएगा। मैंने फोन कर कहा कि सोमवार के बाद में इंतजार नहीं कर सकूंगा। सुसाइड नोट में 11 मार्च को लिखा है कि एजेंट को फिर से कॉल किया। एजेंट ने जबाव दिया कि सुंदरपाल 12 से एक बजे के बीच में आपका चेप्टर ही बंद कर दूंगा। तभी से उसका फोन बंद जा रहा है। 12 मार्च तड़के कमरे में कूंदे पर सुंदरपाल का शव लटका मिला। पुलिस ने सुसाइड नोट को कब्जे में ले लिया है। विभिन्न बिंदुओं पर पुलिस जांच में जुटी है।

Recommended

Spotlight

Follow Us