दिल्ली हाई कोर्ट ने बावनिया गैंग के सदस्य शेखर को दी अंतरिम जमानत

Daily Hunt News 21-11-2020 17:22:43

नई दिल्ली। दिल्ली हाई कोर्ट ने बावनिया गैंग के सदस्य शेखर को अपने मृतक भाई की पत्नी से शादी करने के लिए चार दिनों की अंतरिम जमानत दे दी है। जस्टिस विभू बाखरु की बेंच ने शेखर को 23 नवम्बर से 26 नवम्बर तक अंतरिम जमानत पर रिहा करने का आदेश दिया है।

कोर्ट ने शेखर को 25 हजार रुपये के मुचलके पर अंतरिम जमानत दी है। कोर्ट ने शेखर को निर्देश दिया कि वो 27 नवम्बर तक सरेंडर कर दे। कोर्ट ने कहा कि जेल से रिहा होने के बाद वह सीधे अपने गांव में जाएगा औऱ गांव से बाहर कहीं नहीं जाएगा। गांव के बाहर वह केवल पत्नी को कृषि भूमि का रजिस्ट्रेशन कराने के लिए जाएगा। कोर्ट ने शेखर को निर्देश दिया कि वो किसी भी गवाह या पीड़ित के परिवार के सदस्य से मिलने की कोशिश नहीं करेगा।

शेखर की ओर से वकील अमित साहनी ने कहा कि गांव के बड़े-बुजुर्गों ने शेखर की शादी उसके भाई की विधवा पत्नी से तय की है जो 25 नवम्बर को होना तय हुई है। उन्होंने कहा कि भाई की विधवा पत्नी और उसके नाबालिग बच्चे के लिए शेखर का शादी करना जरूरी है। सुनवाई के दौरान जब कोर्ट ने अमित साहनी से पूछा कि शेखर होनेवाली पत्नी और उसके नाबालिग बच्चे का पालन-पोषण कैसे करेगा तो साहनी ने कहा कि वो शादी के समय अपनी होनेवाली पत्नी के नाम कृषि भूमि की रजिस्ट्री करेगा। सुनवाई के दौरान उन कृषि भूमि का प्रति कोर्ट को सौंपी गई जिनका रजिस्ट्री किया जाना है। उन्होंने कहा कि गांव की परंपरा है कि अगर किसी भाई की मौत हो जाती है तो उसकी विधवा मृतक के किसी दूसरे भाई से शादी कर लेगी।

सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस ने शेखर की अंतरिम जमानत का विरोध करते हुए कहा कि शेखर कुख्यात राजेश वाबनिया गैंग का सदस्य है। वह दिल्ली और हरियाणा के कई इलाकों में हत्या, हत्या की कोशिश और आर्म्स एक्ट के कई मामलों में लिप्त रहा है। ऐसे कुख्यात अपराधी को जमानत नहीं दी जानी चाहिए।

यह खबर भी पढ़े: WHO ने दी बड़ी चेतावनी, कहा- कोरोना जैसी एक और महामारी के मुहाने पर खड़े हैं हम, नहीं संभले तो बर्बाद हो जाएगी एक सदी की मेहनत

यह खबर भी पढ़े: मालदीव में परिवार के साथ छुट्टियां मना रही रकुल प्रीत सिंह, Beach पर दिये बोल्ड पोज

Recommended

Spotlight

Follow Us