एक आदमी के झूठ के कारण लाखों लोगों पर आया संकट, सरकार ने उठाया यह बड़ा कदम

Daily Hunt News 21-11-2020 14:57:51

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी के प्रभाव की वजह से पूरी दुनिया परेशान है। इस वायरस के कारण पूरी दुनिया में 5 करोड़ से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 12 लाख से ज्यादा 

इसके प्रभाव के कारण अपनी जान खो बैठे है। कुछ ऐसा ही मामला दक्षिण ऑस्ट्रेलिया से सामने आया है, जहां एक शख्स के झूठ के कारण लाखों लोगों को दुनिया का सबसे कड़ा लॉकडाउन झेलना पड़ा था। 

दरअसल, दक्षिण ऑस्ट्रेलिया राज्य के प्रमुख स्टीवन मार्शल ने एडिलेड में एक मीडिया कॉन्फ्रेंस के दौरान कहा कि एक आदमी कोरोना वायरस से संक्रमित हुआ था। इसके बाद जब अधिकारियों ने इस आदमी से पूछा तो उसने बताया कि वो एक पिज्जा खरीदने गया था एवं इस दौरान वो कोरोना से संक्रमित हुआ था। 

अधिकारियों को ऐसा लगा कि दक्षिण ऑस्ट्रेलिया में शायद कोविड-19 का कोई बेहद ही खतरानक स्ट्रेन आ गया है जिसने कुछ ही मिनटों में संपर्क में आए एक शख्स को अपनी चपेट में ले लिया। सरकार ने इसके बाद दक्षिण ऑस्ट्रेलिया में लॉक डाउन का ऐलान कर दिया। यह लॉक डाउन 6 दिनों का था एवं ऐसा माना गया कि यह विश्व का सबसे सख्त लॉक डाउन था। 

लोगों को सख्त आदेश थे कि वो आवश्यकता पड़ने पर ही अपने घरों से बाहर निकले। हालांकि, बाद में हुई जांच में सामने आया कि जिस आदमी की वजह से यह सब कुछ हुआ था, उसने झूठ कहा था। वह व्यक्ति उसी पिज्जा की दुकान में कार्य करता था एवं पिछले कुछ दिनों में उसने विभिन्न शिफ्ट में काम किया था। सरकार को जैसे ही इस बात का मालूम हुआ उसने लॉक डाउन हटाने का फैसला लिया। 

मार्शल ने संवाददाताओं से बोला कि," उस शख्स की कहानी नहीं बढ़ पाई। हमने उसका पीछा किया। अब हम जानते हैं कि उसने झूठ कहा था। दक्षिण ऑस्ट्रेलिया के पुलिस आयुक्त ग्रांट स्टीवंस के मुताबिक, मौजूदा कानून के तहत झूठ बोलने पर "कोई जुर्माना" नहीं है। इसलिए उसे कोई सजा शायद ही मिले। परन्तु अधिकारियों की माने तो वो इस मामले की समीक्षा करेंगे। 

यह खबर भी पढ़े: ब्रेकअप के बाद आया कृष्णा श्रॉफ के ब्वॉयफ्रेंड का ये हैरान कर देने वाला पोस्ट, क्या आपने देखा?

Recommended

Spotlight

Follow Us