सरकार ने इस साल किसानों से खरीदा 24.29 प्रतिशत अधिक धान, MSP प्रक्रिया जारी

Daily Hunt News 30-10-2020 22:19:57

नई दिल्ली। न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर खरीफ फसलों की खरीद प्रक्रिया जारी है। सरकार ने इस साल किसानों से 24.29 प्रतिशत अधिक धान खरीदा है।  उपभोक्‍ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर बताया कि खरीफ विपणन सीजन (केएमएस) 2020-21 के दौरान सरकार ने अपनी मौजूदा एमएसपी योजनाओं के अनुसार ही किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीफ फसलों की खरीद प्रक्रिया जारी है, जिस प्रकार से पिछले सीजन में होती रही है।

 खरीफ 2020-21 के लिए धान की खरीद पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, उत्तराखंड, चंडीगढ़, जम्मू-कश्मीर, केरल और गुजरात में सुचारु रूप से चल रही है। 29 अक्टूबर तक इन राज्यों तथा केंद्र शासित प्रदेशों के किसानों से 188.85 लाख मीट्रिक टन से अधिक धान की खरीद की जा चुकी है, जबकि पिछले वर्ष की समान अवधि में 151.94 लाख मीट्रिक टन धान की खरीद हुई थी। इस वर्ष धान की खरीद में पिछले वर्ष की तुलना में 24.29 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। 

188.84 लाख मीट्रिक टन धान की कुल खरीद में से अकेले पंजाब की हिस्सेदारी 129.48 लाख मीट्रिक टन है, जो कि कुल खरीद का 68.56 प्रतिशत है। लगभग 15.81 लाख किसानों को सरकार की वर्तमान एमएसपी योजनाओं का लाभ देते हुए वर्तमान खरीफ विपणन सीजन में न्यूनतम समर्थन मूल्य के अनुसार 35654.42 करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है। इसके अलावा, राज्यों से मिले प्रस्ताव के आधार पर तमिलनाडु, कर्नाटक, महाराष्ट्र, तेलंगाना, गुजरात, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, ओडिशा, राजस्थान और आंध्र प्रदेश राज्यों से खरीफ विपणन सीजन 2020 के लिए 45.10 लाख मीट्रिक टन दलहन और तिलहन की खरीद को भी मंजूरी प्रदान की गई। इसके अतिरिक्त आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल राज्यों से 1.23 लाख मीट्रिक टन खोपरे (बारहमासी फसल) की खरीद के लिए भी स्वीकृति प्रदान की गई है।

सरकार ने  29 अक्टूबर तक अपनी नोडल एजेंसियों के माध्यम से 5572.63 मीट्रिक टन मूंग, उड़द, मूंगफली की फली और सोयाबीन की खरीद एमएसपी मूल्यों पर की है। इस खरीद से तमिलनाडु, महाराष्ट्र, गुजरात और हरियाणा के 3,690 किसानों को 32 करोड़ 30 लाख रुपये की आय हुई है। इसी तरह से 5,089 मीट्रिक टन खोपरा (बारहमासी फसल) की खरीद कर्नाटक और तमिलनाडु राज्यों से की गई है। इस दौरान 3,961 किसानों को लाभान्वित करते हुए न्यूनतम समर्थन मूल्य पर 52 करोड़ 40 लाख रुपये की अदायगी की गई है। खोपरा और उड़द की फसल के लिए अधिकांश प्रमुख उत्पादक राज्यों में एमएसपी पर या फिर उससे ऊपर की दर पर भुगतान किया जा रहा है। इनसे संबंधित राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की सरकारें खरीफ दलहन तथा तिलहन के संबंध में आवक के आधार पर संबंधित राज्यों द्वारा तय तिथि से खरीद शुरू करने के लिए आवश्यक इंतज़ाम कर रही हैं। 

पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और मध्य प्रदेश में कपास की खरीद का कार्य न्यूनतम समर्थन मूल्य के तहत सुचारु रूप से जारी है। 29 अक्टूबर 2020 तक 1,04,675 किसानों से 1,60,352 लाख रुपये के एमएसपी मूल्य पर कपास की 5,48,898 गांठों की खरीद की जा चुकी है।

यह खबर भी पढ़े: ​ब्रह्मोस ​सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ​ने ​4​,​000 किमी​.​ दूर​ से ​जहाज को ​बनाया ​​निशाना

Recommended

Spotlight

Follow Us