भारत पूरी तरह से सैन्य प्रौद्योगिकी देने की स्थिति में नहीं: एयर मार्शल

Daily Hunt News 01-08-2020 09:08:16

नई दिल्ली। वायुसेना को 40 साल की सेवा देने के बाद शुक्रवार को रिटायर हुए एयर मार्शल बी सुरेश ने कहा कि सैन्य प्लेटफार्मों और प्रौद्योगिकियों को विकसित करने के लिए स्वदेशी प्रयासों में समय लग सकता है, लेकिन लंबे समय में यह देश को समृद्ध करेगा। हम मौजूदा समय की अग्रणी अत्याधुनिक तकनीकों, हथियारों को अपनाकर वर्तमान पीढ़ी के प्लेटफॉर्म को हटाना चाहते हैं। नौसेना और भूमि सेना की तुलना में विमानन खुद एक बहुत ही युवा सेना है। रडार और हथियारों पर बहुत सारे घरेलू प्रयास हुए हैं। तेजस जैसे लड़ाकू विमान बनाना कोई आसान काम नहीं है। यह केवल अनुसंधान और विकास ही नहीं है, बल्कि यह खोज की एक प्रक्रिया भी है। उन्होंने कहा कि फिलहाल भारत पूरी तरह से सैन्य प्रौद्योगिकी देने की स्थिति में नहीं है।

एयर मार्शल बी सुरेश को वर्ष 1980 में भारतीय वायु सेना में फाइटर पायलट के रूप में नियुक्त किया गया था। वह राष्ट्रीय भारतीय सैन्य कॉलेज, देहरादून और राष्ट्रीय रक्षा अकादमी, खडकवासला के छात्र रहे हैं और उन्हें टैक्टिक्स से 'स्वॉर्ड ऑफ़ ऑनर' भी मिल चुका है। वायु अधिकारी ने अपना पोस्ट ग्रेजुएशन डिफेंस सर्विसेज स्टाफ कॉलेज, वेलिंगटन और ब्रिटेन के क्रैनफील्ड विश्वविद्यालय से किया। एयर मार्शल सुरेश एक उच्च अनुभवी फाइटर पायलट हैं और उन्होंने कई तरह के विमान उड़ाए हैं। अपने विशिष्ट कैरियर के दौरान उन्होंने कई प्रतिष्ठित कमान और कर्मचारियों की नियुक्ति की। उन्होंने एक लड़ाकू स्क्वाड्रन की कमान संभाली जिसे समुद्री और रात के हवाई हमलों में महारथ हासिल थी। कारगिल संघर्ष के दौरान उन्हें पश्चिमी सीमा पर तैनात किया गया था।

एयर मार्शल ने एयर कमोडोर के रूप में पश्चिमी क्षेत्र में भारतीय वायुसेना के सबसे बड़े हवाई अड्डों में से एक की कमान संभाली है। वह वायु सेना प्रमुख के वायु सहायक भी थे। एयर वाइस मार्शल के रूप में उन्होंने लगभग चार वर्षों के लिए सहायक वायु सेना प्रमुख, संचालन (वायु रक्षा) की नियुक्ति की। उन्हें अति विशिष्ट सेवा पदक (एवीएसएम) के राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वह ग्रुप कैप्टन के रूप में राष्ट्रपति पुरस्कार के सबसे कम उम्र के प्राप्तकर्ताओं में से एक थे। उन्होंने ही भारतीय वायुसेना में राफेल लड़ाकू जेट को शामिल करने की नींव रखी। उन्होंने भारतीय वायुसेना के नए इंडिकेशंस, चिनूक हेवी-लिफ्ट हेलिकॉप्टर और अपाचे अटैक हेलीकॉप्टर के संचालन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। एयर मार्शल बी सुरेश ने लद्दाख सेक्टर में एयरफील्ड का संचालन रात के लड़ाकू अभियानों के लिए किया जिससे भारतीय वायुसेना की 24 घंटे की क्षमताओं को जबरदस्त बढ़ावा मिला। 

यह खबर भी पढ़े: आज स्मार्ट इंडिया हैकाथन को संबोधित करेंगे PM मोदी, छात्रों के साथ भी करेंगे बातचीत

यह खबर भी पढ़े: ऑनलाइन एवं ऑफलाइन परीक्षा को लेकर UGC के साथ छात्रों, शिक्षकों के मध्य गहराता जा रहा विवाद

Recommended

Spotlight

Follow Us