आखिरकार चीन ने मानी हार, गलवान घाटी से 2 किलोमीटर पीछे हटे चीनी सेनिक

Daily Hunt News 07-07-2020 05:06:00

नई दिल्ली। लद्दाख में भारत के सामरिक, आर्थिक और कूटनीतिक जवाब से घबराए चीन ने अब एक नई चाल चली है और अब वह भारत के करीबी दोस्तों को परेशान करने की कोशिश कर रहा है। इसी बीच एक रिपोर्ट के मुताबिक खबर है कि चीन को हार माननी पड़ी और अब चीनी सेना गलवान घाटी से 2 किलोमीटर पीछे हट गई है। 

Indo-China border dispute

'द हिन्दू' की एक रिपोर्ट के मुताबिक चीनी सैनिक पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में 15 जून को हुई हिंसा वाली जगह से 2 किलोमीटर पीछे हट गए हैं। 15 जून की घटना के बाद चाइनीज पीपल्स लिब्रेशन आर्मी (पीएलए) के सैनिक उस स्थान से इधर आ गए थे जो भारत के मुताबिक एलएसी है। भारत ने भी अपनी मौजूदगी को उसी अनुपात में बढ़ाते हुए बंकर और अस्थायी ढांजे तैयार कर लिए थे। दोनों सेनाएं आंखों में आंखें डाले खड़ी थीं।

Indo-China border dispute

कमांडर स्तर की बातचीत में 30 जून को बनी सहमति के मुताबिक चीनी सैनिक पीछे हटे या नहीं,  इसको लेकर रविवार को एक सर्वे किया गया। अधिकारी ने बताया, ''चीनी सैनिक हिंसक झड़प वाले स्थान से दो किमी पीछे हट गए हैं। अस्थायी ढांचे दोनों पक्ष हटा रहे हैं।'' उन्होंने बताया कि बदलवा को जांचने के लिए फिजिकल वेरीफिकेशन भी किया गया है। 

Indo-China border dispute

वहीं एक रिपोर्ट के मुताबिक जिस गलवान घाटी पर अपना दावा जताकर चीन भारत के खिलाफ मोर्चाबंदी कर रहा है, उसी गलवान नदी के तट पर अब चीनी सेना की मुश्किलें बढ़ गईंं हैं। गलवान नदी के किनारे चीन की तैनाती नहीं हो पा रही है, क्योंकि नदी का जल स्तर तेज गति से बढ़ने के कारण गलवान के किनारों पर लगे चीनी सेना के कैम्प बह गए हैंं।

Indo-China border dispute

उपग्रह और ड्रोन की तस्वीरों से पता चलता है कि चीनी पीएलए के टेंट गलवान के बर्फीले बढ़ते पानी में पांच किलोमीटर गहराई में बह गए हैंं। काफी तेजी से बर्फ पिघलने के कारण नदी के तट पर इस समय स्थिति खतरनाक है। चीन यहां से पीछे हटने के बाद अधिक से अधिक नई तैनाती करने में जुट गया है लेकिन गलवान, गोगरा, हॉट स्प्रिंग्स और पैंगोंग झील में मौजूदा स्थिति के चलते चीनी सेना की तैनाती लंबे समय के लिए अस्थिर हो गई है।

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

यह खबर भी पढ़े: WHO ने लगाई हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन के क्लीनिकल ट्राइल पर रोक, भारत में भी बंद हो सकता है उपयोग

यह खबर भी पढ़े: अमेरिका का चीन पर तीखा हमला- दक्षिणी चीन सागर में अमेरिकी नौसेना का दो विमान वाहक मौजूद...

 

Recommended

Spotlight

Follow Us