चीन को भारत से टकराव करना पड़ा भारी: पूरी दुनिया में घटी चीनी सामानों की मांग

Daily Hunt News 29-06-2020 21:45:35

नई दिल्ली। चीन को धीरे-धीरे भारत से टकराव करना भारी पड़ता जा रहा है। बॉर्डर पर तनाव के कारण चीन को भारत में बहिष्कार का सामना करना पड़ रहा है। भारत से शुरू हुआ ये बहिष्कार अब दुनिया भर में फैलता जा रहा है। पूरी दुनिया इस समय चीन का सामान खरीदने से कतरा रही है।

दुनियाभर में चीन में बने सामान की मांग लगातार घट रही है. जिसके कारण चीन का कोराबार बुरी तरह से नीचे गिरता जा रहा है। जून में चीन में मैन्‍युफैक्‍चरिंग गतिविधियों की रफ्तार काफी धीमी रही है।

चीन का खरीद प्रबंध सूचकांक (PMI) जून में गिरकर 50.4 रहने के आसार हैं, जो मई में 50.6 पर था. जिसका सीधा मतलब ये है कि चीन में फैक्ट्री गतिविधियां घट रही है।

चीन के सामानों के बहिष्कार का एक कारण ये भी है कि लगभग सभी देशों को लगता है कि कोरोना वायरस चीन से आया है। चीन ने समय से चेतावनी नहीं दी जिसके कारण आज ये दुनियाभर में फैल चूका है। इतना ही नहीं चीन देशों की मदद करने की जगह उन्हें गलत मास्क और पीपीई किट भी भेज रहा है।

चीन के निर्यात में मई में 3.3 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई, लेकिन महामारी से संबंधित चिकित्सा आपूर्ति की मांग के कारण स्थिति कुछ संभल गई।

बता दें कि भारत में चीनी सामान, एप और अन्य टेक्नोलॉजी के बहिष्कार की मुहिम शुरू होने से चीन भी सहमा हुआ है। कोरोना संक्रमण के चलते चीन की अर्थव्यवस्था भी बुरे दौर में है और वह भारत जैसे दुनिया के एक बड़े बाज़ार को खोना नहीं चाहता है।

ऐसे में भारत से बातचीत जारी रखने के साथ-साथ वह अपनी सरकारी मीडिया के जरिए लगातार प्रोपगैंडा फैला रहा है कि चीनी सामान का बहिष्कार करने से भारत की अर्थव्यवस्था को ही झटका लगने वाला है। हाल ही में चीन की तरफ से ये भी कहा गया है कि टिड्डियों के अटैक के बाद भारत में खाद्यान संकट पैदा हो सकता है इसलिए उसे चीन के साथ ट्रेड वार में उलझकर वक़्त नहीं बर्बाद करना चाहिए।

यह खबर भी पढ़े: सोनिया गांधी ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों को लेकर सरकार पर बोला हमला, कहा- मुनाफाखोरी न करें

यह खबर भी पढ़े: महाराष्ट्र में कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए 31 जुलाई तक जारी रहेगा लॉकडाउन

Recommended

Spotlight

Follow Us