भारत/हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन पर रिसर्च ने बढ़ाई उम्मीद, ट्रायल में करीब 70 फीसदी स्वास्थ्यकर्मी निकले नेगेटिव

Daily Hunt News 22-05-2020 13:12:13

नई दिल्ली। तेलंगाना सरकार द्वारा तैयार की गई एक रिपोर्ट में राज्य में चिकित्साकर्मियों को कोरोनावायरस से बचाने में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्सीन के उपयोग से अच्छे परिणाम मिले है। राज्य सरकार द्वारा किये गए शोध से पता चला है कि 70 फीसदी स्वास्थ्यकर्मियों पर हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के ट्रायल के आधार पर कोरोनावायरस से बचने के लिए उपयोग किया था। उनमें कोविड-19 के एक भी लक्षण दिखाई नहीं दिए। 

Hydroxychloroquine

एक जानकारी के मुताबिक 394 हेल्थकेयर वर्कर पर इस दवा का ट्रायल किया गया, जो संभवत: कोरोना वायरस के मरीजों के साथ संपर्क में रहे। हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा लेने के बाद कोरोनावायरस के खिलाफ मजबूर प्रतिक्रिया दी और वह कोरोना मरीजों में संपर्क में आने के बावजूद संक्रमित भी नहीं हुए। इसके अलावा, इन 394 फ्रंटलाइन हेल्थ केयर वर्करों में से 71% का अलग-अलग कोरोना टेस्ट भी किया गया और सभी के टेस्ट नेगेटिव पाए गए।

Hydroxychloroquine

इस रिसर्च के दो उद्देश्य थे- पहला, हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा का कुछ प्रतिशत लोगों पर प्रभाव और व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) की स्वास्थ्यकर्मियों को संक्रमित करने से रोकने की क्षमता।

Hydroxychloroquine

वहीं, एक रिपोर्ट के अनुसार स्वास्थ्यकर्मियों पर हुए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा के शोध में 694 के मूल अध्ययन नमूनों में से 533 को दवा दी गई और प्रारंभिक खुराक के बाद हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के लगातार उपयोग के साथ 7 सप्ताह तक उनकी निगरानी की गई।

Hydroxychloroquine

हालांकि, इस अध्ययन के दौरान कुछ डॉक्टर और नर्स इसके दुष्प्रभाव के चलते दवा की खुराक को लेना भूल गए। वहीं, कुछ ऐसे भी स्वास्थ्य कर्मी थे जो समय पर दवा लेने से वंचित रह गए। एचसीक्यू की खुराक के लिए चुने गए 533 स्वास्थ्य कर्मियों में से 93 लोगों ने असंगता के बारे में बताया। 

Hydroxychloroquine

रिपोर्ट में कहा गया कि एचसीक्यू का सेवन करने वाले 533 स्वास्थ्यकर्मियों में से 394 (73.9 फीसदी) का कोरोना संक्रमितों के साथ संपर्क हुआ। इन सभी को सलाह दी गई थी कि जब भी ये कोरोना मरीज के संपर्क में जाए, पीपीई किट को जरूर पहनें। इनमें से किसी में भी कोविड-19 के लक्षण नहीं दिखाई दिए, फिर वो चाहे, बुखार, गले में खराश या खांसी आना ही क्यों न हो।

Hydroxychloroquine

बता दें कि हाल ही में, भारत सरकार ने एचसीक्यू की लाखों गोलियों को 87 देशों को निर्यात किया है। हालांकि, इसकी पूर्व रूप से प्रभावकारिता को लेकर कोई नतीजे सामने नहीं आए हैं। दुनियाभर के नेताओं के साथ-साथ अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत द्वारा एचसीक्यू के निर्यात के लिए प्रतिबंधों को हटाने पर पीएम मोदी की शुक्रिया कहा था।  

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन

 

यह खबर भी पढ़े: Research: भारत में करीब 5 करोड़ लोगों के पास नहीं है हाथ धोने की व्यवस्था, संक्रमण फैलने का जोखिम बहुत अधिक

यह खबर भी पढ़े: उत्तराखंड/कॉलेजों में नए प्रवेश को लेकर राज्य सरकार की घोषणा, जानिए कब से खुलेंगे विश्वविद्यालय

 

Recommended

Spotlight

Follow Us