यहां के डॉक्टरों ने किया अनोखा काम, मृत व्यक्ति के दिल में डाल दी जान

Daily Hunt News 12-12-2019 03:30:00

नई दिल्ली। आज हम आपको एक ऐसी खबर के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप चौंक जाएंगे। दरअसल, अमेरिका के ड्यूक यूनिवर्सिटी के चिकित्सकों ने एक मरे हुए शख्स के दिल को दोबारा धड़काकर अन्य शख्स के शरीर में सफलतापूर्वक ट्रांसप्लांट किया।

sggf

यह खबर भी पढ़े:बॉस संग सिगरेट पीने वालों का शीघ्र होता है प्रमोशन, जानिए कैसे..!

दरअसल, सडन कार्डियक डेथ के पश्चात एक शख्स के शरीर में खून का संचार बंद हो गया था एवं दिल भी काम करना बंद कर दिया था। चिकित्सकों ने इस मृतक के दिल को ऑक्सीजन, इलेक्ट्रोलाइट्स तथा खून देकर फिर से धड़काना प्रारंभ कर दिया। तत्पश्चात इस दिल को एक दूसरे शख्स के शरीर में प्रत्यारोपित किया गया।

प्रत्यारोपण से पूर्व चिकित्सकों की टीम ने दिल को धड़काने का वीडियो रिकॉर्ड किया जो इंटरनेट पर वायरल हो गया। इस दिल को प्रत्यारोपित करने वाले टीम के सदस्य चिकित्सक  जैकब श्रोडर की माने तो, अंगों के दान में वक्त सबसे प्रमुख भूमिका अदा करता है। जैसे ही शख्स मरता है। ऑक्सीजन की सप्लाई ठहर जाती है। 

इससे टिश्यू शीघ्रता से समाप्त होकर हार्ट की धड़कन को कम करने लगते हैं। प्राकृतिक मौत के पश्चात जब दिल की धड़कन ठहर जाती है, तब भी दिल तक कुछ मात्रा में ऑक्सीजन पहुंच रही होती है। दिल को संक्रमित होने से बचाने हेतु सर्वाधिक ठंडे वातावरण में रखा जाता है।

sggf

इंसान के शरीर में यही एक मात्र अंग है, जो शरीर के बाहर रहते हुए भी 4 से 6 घंटे तक कार्य कर सकता है। मरे हुए शख्स के दिल को निकालकर शीघ्र मशीन से जुड़ी नली से जोड़ दिया। मशीन से दिल को जैसे खून, ऑक्सीजन एवं इलेक्ट्रोलाइट्स सप्लाई हुई। वो शीघ्र धड़कने लगा। 

इस तकनीक को 'परफ्यूजन' बोला जाता है। इसका पूर्व बार उपयोग साल 2015 में यूके रॉयल पापवर्थ हॉस्पिटल में किया गया था। तब से लेकर अब तक रॉयल अस्पताल ने 75 से ज्यादा ऐसे दिलों को प्रत्यर्पित किया जो शरीर में खून का संचार बंद कर चुके थे।

Recommended

Spotlight

Follow Us