गुजरात दंगे की फाइनल रिपोर्ट विधानसभा में पेश, नानावती आयोग ने पीएम मोदी को दी क्लीन चिट

Daily Hunt News 11-12-2019 12:43:53

नई दिल्ली। गुजरात में साल 2002 में हुए दंगों पर नानावती आयोग की फाइनल रिपोर्ट गुजरात विधानसभा में पेश कर दी गई है। रिपोर्ट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (तत्कालीन मुख्यमंत्री) को क्लीन चिट दी गई है। 27 फरवरी 2002 को गोधरा में साबरमती एक्सप्रेस की बोगी में 58 कारसेवकों को जिंदा जलाए जाने के बाद गुजरात में सांप्रदायिक हिंसा हुई थी।

यह भी पढ़े: बीजेपी संसदीय दल बैठक: PM मोदी ने कहा- नागरिकता विधेयक स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा

राज्य के गृहमंत्री प्रदीप सिंह ने कहा कि आयोग ने तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को क्लीन चिट दिया है। साथ ही आयोग ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि तत्कालीन मंत्री हरेन पंड्या, भरत बारोट और अशोक भट्ट की किसी भी तरह की भूमिका साफ नहीं होती है. रिपोर्ट में अरबी श्रीकुमार, राहुल शर्मा और संजीव भट्ट की भूमिका पर सवाल खड़े किए गए हैं।

यह भी पढ़े: अयोध्या मामले पर डोभाल ने CM योगी को लिखा ये लैटर, यूपी में हो रही चर्चा

गृह मंत्री ने कहा, 'नरेंद्र मोदी पर आरोप लगा था कि किसी भी जानकारी के बिना वो गोधरा गए थे। इस आरोप को आयोग ने ख़ारिज कर दिया है। इसके बारे में सभी सरकारी एजेंसियों को जानकारी थी। आरोप था कि गोधरा रेलवे स्टेशन पर ही सभी 59 कारसेवकों का शवों का पोस्टमॉर्टम किया गया था। इस पर आयोग का कहना है कि मुख्यमंत्री के आदेश से नहीं बल्कि अधिकारियों के आदेश से पोस्टमार्टम किया गया था।'

Recommended

Spotlight

Follow Us