BCCI ने लगाया इस क्रिकेटर पर दो साल का बैन, आयु में हेराफेरी...

Daily Hunt News 03-12-2019 01:11:00

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने दिल्ली के एक क्रिकेटर को दो साल के लिए बैन कर दिया है, जिसने बोर्ड के साथ धोखाधड़ी की है। दिल्ली के क्रिकेटर प्रिंस राम निवास यादव को अंडर-19 टूर्नामेंट में आयु में हेराफेरी के मामले में दोषी पाए जाने के लिए प्रतिबंधित किया है। यादव ने खुद को दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ में 2018-19 में खुद को अंडर 19 एज ग्रुप कैटेगरी में शामिल कराया था।

यह भी पढ़े: टी-20 इतिहास में इस महिला का नया कारनामा, टीम 5 गेंद में जीती मैच

दरअसल, दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) के साथ पंजीकृत यादव को बीसीसीआई ने तुरंत प्रभाव से अयोग्य कर दिया है और साथ ही 2020-21 और 2021-22 घरेलू सत्र में उसके भाग लेने पर भी पाबंदी लगा दी है। लगातार दो सीजन में राम निवास यादव नाम के खिलाड़ी ने एक ही उम्र बोर्ड के सामने पेश की है, डीडीसीए के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ‘इसकी पुष्टि हो गई है। BCCI से हमें सूचना मिली है कि प्रिंस यादव को आयु में हेराफेरी का दोषी पाया गया है। 

 

ANI ✔@ANI
 

BCCI: As per recently issued birth certificate submitted by Prince Ram Niwas Yadav, his date of birth is 12th Dec 2001. But, BCCI checked records with CBSE & it was found that he had passed Class 10 in 2012 & his actual date of birth is 10th June 1996. https://twitter.com/ANI/status/1201384200449884160 …

ANI ✔@ANI
 

BCCI: Prince Ram Niwas Yadav, a player registered by Delhi & District Cricket Association in U-19 age group category in 2018-19 season&re-registered in 2019-20, is disqualified with immediate effect&banned from participating in any 2020-21&2021-22 BCCI domestic cricket seasons.

View image on Twitter
201
11:50 AM - Dec 2, 2019
Twitter Ads info and privacy
60 people are talking about this

बीसीसीआई ने केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) द्वारा जारी प्रमाण पत्र के आधार पर कार्रवाई की जिसमें प्रिंस यादव की जन्मतिथि 10 जून 1996 थी, लेकिन इस क्रिकेटर ने क्रिकेट बोर्ड को जो जन्म प्रमाण पत्र सौंपा था उसमें उसकी जन्मतिथि 12 दिसंबर 2001 दर्ज थी। डीडीसीए को भेजे ई-मेल में बीसीसीआई ने कहा, ‘प्रिंस राम निवास यादव (खिलाड़ी पहचान संख्या 12968), जिसे डीडीसीए ने 2018-19 सत्र में अंडर-19 आयु वर्ग में पंजीकृत किया और फिर 2019-2020 में पुन: पंजीकरण किया गया। 

प्रिंस राम निवास यादव ने एक से अधिक बर्थ सर्टिफिकेट (जन्म प्रमाण पत्र) बोर्ड को जमा किए हैं और बीसीसीआई से कम एज ग्रुप के टूर्नामेंट में खेलने का फायदा उठाया है। दो साल के बैन के बाद इस खिलाड़ी को सिर्फ सीनियर मेंस क्रिकेट टूर्नामेंट में खेलने की इजाजत होगी। BCCI ने इससे पहले जम्मू-कश्मीर के खिलाड़ी रसिख सलाम को भी उम्र में झोल करने के चक्कर में इसी तरह की सजा दी थी। बोर्ड ने कहा, ‘इसे देखते हुए प्रिंस यादव को तुरंत प्रभाव से अयोग्य किया जाता है।

दो साल का प्रतिबंध पूरा होने के बाद उसे सिर्फ सीनियर पुरुष क्रिकेट टूर्नामेंट में खेलने की स्वीकृति होगी।’ दिल्ली क्रिकेट में आयु धोखाधड़ी कोई नया मामला नहीं है, कुछ मामले तो पुलिस के पास भी लंबित पड़े हैं क्योंकि खिलाड़ी अब सीनियर स्तर पर खेल रहे हैं। मनजोत कालरा और हिम्मत सिंह ऐसे दो खिलाड़ी हैं जिनके खिलाफ आयु धोखाधड़ी के मामले लंबित हैं और वे अब दिल्ली की सीनियर टीम में हैं। 

Recommended

Spotlight

Follow Us