भाजपा-कांग्रेस में घुसपैठिया पर घमासान, अब इस नेता ने सोनिया गांधी को कहा घुसपैठिया

Daily Hunt News 02-12-2019 16:49:07

नई दिल्ली। सदन में जुबानी जंग जारी हैं। सदन में मामला उस समय गरमा गया जब संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने सोमवार दोपहर को सदन में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को ‘घुसपैठिया’ कह डाला। बहस के दौरान संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी लगातार मांग कर रहे थे कि अधीर रंजन चौधरी माफी मांगें, इसी दौरान उन्होंने कहा, ‘…प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश के लोगों ने लगातार दूसरी बार चुनकर भेजा है, ऐसे लोकप्रिय नेता को इन्होंने घुसपैठिया कहा है। इनका खुद का नेता घुसपैठिया है, कांग्रेस की अध्यक्ष घुसपैठिया हैं।’ बता दें भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘घुसपैठिया’ कहने पर सोमवार को राज्यसभा में शाेर शराबा किया और कहा कि सदन को इस बयान की निंदा करनी चाहिए। 

यह खबर भी पढ़ें:​ राजस्थान/ पंचायत चुनाव 2020 को लेकर आयी ये बड़ी खबर, निर्वाचन आयोग ने दिए ये अहम् दिशा-निर्देश, जानिए

सदन में भोजनावकाश के बाद कार्यवाही शुरू होने पर उप सभापति हरिवंश ने ‘इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट प्रतिबंध विधेयक 2019’ की चर्चा शुरु कराने का प्रयास किया तो भाजपा के भूपेंद्र यादव ने व्यवस्था का प्रश्न उठाया और कहा कि लोकसभा के एक सदस्य ने प्रधानमंत्री के खिलाफ अशोभनीय शब्दों का प्रयोग किया है। इस सदस्य ने प्रधानमंत्री के लिए ‘घुसपैठिया’शब्द का इस्तेमाल किया है। सदन को इसकी निंदा करनी चाहिए। इस पर कांग्रेस के बी के हरिप्रसाद, रिपुन बोरा और दिग्विजय सिंह खड़े हो गये और कहा कि दूसरे सदन के मामलों का उल्लेख इस सदन में नहीं किया जा सकता।

यह खबर भी पढ़ें:​ राजस्थान/ शिक्षा में अव्वल इस जिले में तेजी से पैर पसार रहा हैं एड्स, हर दिन हो रही हैं इतनी मौतें

श्री हरिवंश ने कहा कि व्यवस्था का प्रश्न केवल सदन में मौजूदा कार्यवाही के संबंध में उठाया जा सकता है। इसके बाद भाजपा के सभी सदस्य खड़े हो गये और ‘माफी मांगों, माफी मांगों’ के नारे लगाते हुए आसन की ओर बढ़ने लगे। श्री हरिवंश ने सदस्यों से शांति बनाये रखने का अनुरोध करते हुए कहा कि सदन चलाने में सभी सहयोग करना चाहिए। श्री यादव ने कहा कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता सभी को अधिकार है लेकिन यह किसी के अपमान करने की स्वतंत्रता नहीं है। सदन ने पहले भी ऐसे मामलों में ऐसे लोगों की निंदा की है जो इस सदन के सदस्य नहीं है या मामला सदन से बाहर का रहा है। 

Recommended

Spotlight

Follow Us