सही सलामत है चांद की सतह पर मौजूद विक्रम लैंडर, नहीं हुआ क्षतिग्रस्त: ISRO

Daily Hunt News 10-09-2019 12:53:04

नई दिल्ली। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के एक अधिकारी ने बीते सोमवार को बताया कि 'चंद्रयान-2 का लैंडर 'विक्रम चांद की सतह पर साबुत अवस्था में है एवं येटूटा नहीं है। हालांकि, 'हार्ड लैंडिंग के कारण से यह झुक गया है तथा इससे पुन: संपर्क स्थापित करने का हरसंभव प्रयास किया जा रहा है।

gdfsg

यह खबर भी पढ़े:इसरो ने किया बड़ा खुलासा: शिवन के नाम से सोशल मीडिया के कई प्लेटफार्म पर चल रहे फर्जी अकाउंट, जबकि...

इसरो के प्रमुख के सिवन ने बीते रविवार को बताया था कि चंद्रयान-2 ऑर्बिटर में लगे कैमरों ने लैंडर की उपस्थिति का मालिया किया। इससे एक दिन पूर्व ही यह महत्त्वकांक्षी चंद्रमा मिशन योजना के मुताबिक चंद्रमा की सतह पर 'सॉफ्ट लैंडिंग' नहीं कर सका था। 

मिशन से जुडे़ एक वैज्ञानिक का कहना है कि, विक्रम का ऊर्जा का खपत करना कोई मुद्दा नहीं है। उसे ये ऊर्जा सौर पैनलाें से ही प्राप्त हो सकती हैं, जो उसके चारों तरफ हैं एवं अपनी अंदरूनी बैटरियों से भी उसे यह ऊर्जा मिल सकती है। उन्होंने कहा कि इसरो की एक टीम इसरो टेलीमेट्र्री, ट्रैकिंग एंड कमांड नेटवर्क पर विक्रम से संचार कायम करने के कार्य में 24 घंटे लगी हुई है। 

प्लीज सब्सक्राइब यूट्यूब बटन 

इसरो ने बयान जारी कर बोला था- 95% मिशन कामयाब उधर, मिशन चंद्रयान 2 को लेकर बीते शनिवार को मिले जबरदस्त झटके के पश्चात इसरो ने अपने पहले बयान में हिंदुस्तान के चंद्रयान-2 को एक कठिन मिशन करार दिया। साथ ही, इसरो ने इसे एक “महत्वपूर्ण तकनीकी छलांग कहा।”

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 2600/- वर्गगज, टोंक रोड (NH-12) जयपुर में 9314166166

Recommended

Spotlight

Follow Us