149 वर्ष बाद गुरू-पूर्णिमा पर बन रहा है ग्रहों का दुर्लभ योग, इन राशियों को मिलेगा विशेष लाभ

Daily Hunt News 11-07-2019 04:43:00

डेस्क। आषाढ़ शुक्ल की पूर्णिमा को गुरू पूर्णिमा का विशेष पर्व मंगलवार 16 जुलाई को मनाया जाएगा। भारतीय संस्कृति में गुरू को देवता तुल्य माना गया है। ज्योतिषाचार्य पं. सतीश सोनी के अनुसार गुरू पूर्णिमा पर चन्द्र ग्रहण भी रहेगा। 

ज्योतिषाचार्य ने बताया कि इस बार गुरू पूर्णिमा पर 149 वर्ष बाद चन्द्रग्रहण के साथ ग्रहों का दुर्लभ योग बन रहा है। इस बार ग्रहण के समय शनि और केतु चन्द्रमा के साथ धनु राशि में हो रहे ग्रहण का ज्यादा प्रभाव पड़ेगा। सूर्य के साथ राहु और शुक्र भी रहेंगे। 

शर्मसार : कंडक्टर ने चलती बस से महिला को पति के शव के साथ..., कार्रवाई का दिया आश्वासन
यह भी पढ़ें

ज्योतिषाचार्य ने बताया कि सूर्य और चन्द्र चार विपरीत ग्रह शुक्र, शनि, राहु और केतु के घेरे में रहेंगे। वहीं मंगल नीच का रहेगा। ऐसा योग 12 जुलाई 1870 को 149 वर्ष पहले बना था जब गुरू पूर्णिमा पर चन्द्र ग्रहण हुआ था। उस समय भी शनि, केतु और चन्द्र के साथ धुन राशि में  स्थित था। जबकि सूर्य राहु के साथ मिथुन राशि में स्थित था। 

दुर्लभ योग का प्रभाव
ज्योतिषाचार्य ने बताया कि ग्रहों का यह योग और इस पर लगने वाला चन्द्र ग्रहण तनाव बढ़ाने वाला हो सकता है। ऐसे में प्राकृतिक आपदाओं और राजनीति का प्रभाव भी देखने को मिल सकता है।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 4300/- गज, अजमेर रोड (NH-8) जयपुर में 7230012256

Recommended

Spotlight

Follow Us