दुनिया से जाते-जाते दो जिंदगियां रोशन कर गयीं सरोज

Daily Hunt News 7/10/2019 9:28:37 PM

बोकारो। तेरापंथ समाज की तरफ से मानवता की सेवा का परम उदाहरण एक बार फिर सामने आया है। चास स्थित राणा प्रताप नगर निवासी तेरापंथ महिला मंडल की सचिव सरोज देवी वैद्य अब इस दुनिया में नहीं रहीं। ह्रदयगति रुकने के कारण उनका देहांत हो गया। लेकिन, अपनी स्वर्गवासी माता किरण देवी दुधेड़िया की तरह उन्होंने भी मरते-मरते दो अंधेरी जिंदगियों को रोशन कर परलोक चली गयीं।

प्रधानमंत्री मातृ-वंदना योजना के क्रियान्वयन में धमतरी प्रदेश में अग्रणी
यह भी पढ़ें

चेतन वैद्य की सहधर्मिणी सरोज देवी वैद्य की इच्छा के अनुरूप उनके परिजनों ने उनके निधन के बाद उनकी आंखें दान कर दीं और इसकी चिकित्सीय प्रक्रिया उनके निधन के बाद पूरी कर ली गयी। बुधवार को गरगा नदी किनारे श्मशान घाट पर उनकी अंत्येष्टि हुई। सरोज देवी वैद्य अपने पीछे दो पुत्र सुशील वैद्य और विनय वैद्य सहित पौत्र-पौत्री से भरा-पूरा परिवार छोड़ गयी हैं।

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना में 101 जोड़े बंधे
यह भी पढ़ें

तेरापंथ समाज की ओर से इस आशय की जानकारी देते हुए सुरेश बोथरा ने बताया कि सरोज देवी जी की पहचान तेरापंथ समाज में काफी अच्छी थी।समाज की ज्ञाता व अत्यंत सेवाभावी कर्मठ व्यक्तित्व वाली महिला थीं। उनके आकस्मिक निधन से पूरा जैन समाज मर्माहत है। उनके निधन पर शोक जताने वालों तथा श्रद्धांजलि देने वालों का तांता लगा है। विदित हो कि बीते मार्च माह के अंत में सरोज देवी वैद्य की माता जी किरण देवी दुधेड़िया की आंखें भी उनके मरणोपरांत उनके इच्छानुसार दान की गयी थीं।

गोवर्मेन्ट एप्रूव्ड प्लाट व फार्महाउस मात्र रु. 4300/- गज, अजमेर रोड (NH-8) जयपुर में 7230012256

Recommended

Spotlight

Follow Us